राजस्थान में मिला कलयुग का कुंभकरण ,लगातार सोता है 300 दिनों तक, ये है बड़ी वजह

Total Views : 104
Zoom In Zoom Out Read Later Print

देर तक सोने के लिए हम सभी ने अपने घरों में कभी न कभी रामायण के एक पात्र 'कुंभकरण' वाला ताना सुना ही होगा। लेकिन क्या वास्तव में कोई कुंभकरण जैसी लंबी नींद ले सकता है? कहा जाता है कि कुंभकरण 6 माह तक सोता था लेकिन राजस्थान में एक ऐसा शख्स मिला है जिसने कुंभकरण को भी पीछे छोड़ दिया है। वह लगातार 10 महीने यानी 300 दिनों तक सोता रहता है। यहां के नागौर के रहने वाला 42 साल का पुरखाराम 300 दिन सोता है और बाकी का समय अपना छोटा मोटा काम कर गुजारा करता है। ये कोई सामान्य बात नहीं है। दरअसल, इस व्यक्ति को एक खास तरह की बीमारी है जिसकी वजह से उसकी ये हालत है।

नींद में होते हैं खाने से नहाने तक के काम

सुनने में अजीब लगता है लेकिन पुरखाराम ज्यादातर नित्य क्रिया के काम नींद में ही करते हैं। वे साल में लगभग 300 दिन तक सोते हैं। इस दौरान उनके खाने से लेकर नहाना, सब कुछ नींद में ही होता है। 

अचानक ज्यादा बढ़ गई सोने की बीमारी

गांव में ही पुरखाराम की रानाबाई किराणा स्टोर के नाम से दुकान है। साल 2015 से उनकी ये बीमारी ज्यादा बढ़ गई और वे अचानक ही एक दिन में 18-18 घंटे भी सोने लगे। कई बार उनकी दुकान के बाहर कितने अखबार पड़े हैं, इससे अंदाजा लगाया जाता है कि वे कितने दिन सो लिए हैं।


एक बार सोए तो उठाना मुश्किल

ये एक बार सो जाएं तो इन्हें उठाना लगभग नामुमकिन हो जाता है। पुरखाराम को उनके घर वाले नींद में ही खाना खिलाते हैं. जब बाथरूम जाना होता है तो नींद में ही पुरखाराम बेचैन हो जाते हैं और उन्हें उठाकर परिवार वाले बाथरूम ले जाते हैं। पुरखाराम की नींद का  अभी तक कोई इलाज नहीं मिल सका है, लेकिन उनकी माता कंवरी देवी और पत्नी लिछमी देवी को उम्मीद है कि जल्द ही वे ठीक हो जाएंगे। शुरुआती दौर में 5 से 7 दिनों के लिए सोते थे, लेकिन अब से वक्स महीनों में बदल गया है।