अगर आप हाई बीपी से बचना चाहते हैं, तो अपनी जीवनशैली को इस तरह बदलें

Total Views : 1,356
Zoom In Zoom Out Read Later Print

हाई ब्लड प्रेशर शरीर के किसी अंग को कभी भी प्रभावित कर सकता है इसलिए समय रहते इस बीमारी से अवगत हो जाए और अपनी जीवन शैली में बदलाव करें। खान-पान सुधारें और जंगफूड से परहेज करें।

जिंदगी की मसरूफियत से बढ़ती परेशानियों ने लोगों को कम उम्र में ही ताउम्र साथ रहने वाली बीमारियों का शिकार बना दिया है। ब्लडप्रेशर या हाइपरटेंशन एक ऐसी ही बीमारी है, जिसने उम्र के फासले को लांघ लिया है। आज हाइपरटेंशन ने कम उम्र में ही लोगों को अपना शिकार बना रखा है। हाइपरटेंशन को ही उच्च रक्तचाप व हाई बीपी की समस्या कहते है, जिसमें धमनियों में रक्त का दबाव बढ़ जाता है। इस दबाव की बढ़ोतरी से रक्त की धमनियों में रक्त का प्रवाह बनाए रखने के लिये दिल को अधिक काम करने की जरुरत पड़ती है।  हेल्थ गाइडलाइन्स के मुताबिक, 120/80 mmHg से ज्यादा रक्त का दबाव होने पर व्यक्ति हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर की श्रेणी में आ जाता है। वैसे तो हाई ब्लड प्रेशर शरीर के किसी अंग को कभी भी प्रभावित कर सकता है, लेकिन इससे सबसे ज्यादा नुकसान दिल को होता है।

लोगों में हाइपरटेंशन के कई कारण होते हैं, जैसे बढ़ता मोटापा, नींद की कमी, अधिक गुस्सा करना, तेल वाले पदार्थों का अधिक इस्तेमाल करना। इतना ही नहीं, उच्‍च रक्‍तचाप होने पर सिर चकराना, थकान और सुस्ती जैसे लक्षणों भी कई लोगों में पाए जाते हैं। आप भी इस बीमारी से बचना चाहते हैं तो अपनी लाइफस्टाइल में सुधार करें और हमारी बताई गाइडलाइंस का प्रयोग करें-

शरीर को तंदुरुस्त रखने के लिए आप रेगुलर एक्‍सरसाइज करें। आपको बीपी की परेशानी है तो कम से कम 15 मिनट तक पैदल चलें।

हाई बीपी के रोगी को नियमित रूप से अपना ब्‍लड प्रेशर चेक करते रहना चाहिए। बीपी अधिक होने पर डॉक्टर के मुताबिक बीपी की दवा का सेवन करें।

जंक फूड खाने से परहेज करें। अगर आपका बीपी हाई रहता है तो शराब और तंबाकू का सेवन बिल्‍कुल नहीं करें।

बीपी हाई की परेशानी है तो संतुलित भोजन खाने की आदत डालें। खाने में फल और हरी सब्जियों का इस्तेमाल करें।

नमक ज्यादा खाने की आदत है तो इस आदत को बदल डालिए। नमक आपका बीपी और हाई कर सकता है। दिन में 5-6 ग्राम नमक का ही इस्तेमाल करें।

हाइपरटेंशन में हार्ट अटैक आने के साथ ही कई तरह की समस्‍याएं हो सकती हैं, जैसे आंखों की रोशनी और किडनी खराब हो सकती है। इनके अलावा, पैरों की नसों में खून जमा हो सकता है या फिर ब्रेन हैम्ब्रेज भी हो सकता है। इसलिए आप तला-भुना खाने से परहेज करें और संतुलित भोजन करें। 

 डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।